खुजली के लिए आयुर्वेदिक उपचार Reviewed by Momizat on . जब त्वचा की सतह पर जलन का एहसास होता है और त्वचा को खरोंचने का मन करता है तो उस बोध को खुजली कहते हैं। खुजली के कई कारण होते हैं जैसे कि तनाव और चिंता, शुष्क त् जब त्वचा की सतह पर जलन का एहसास होता है और त्वचा को खरोंचने का मन करता है तो उस बोध को खुजली कहते हैं। खुजली के कई कारण होते हैं जैसे कि तनाव और चिंता, शुष्क त् Rating: 0
You Are Here: Home » Systems of Medicine » Ayurveda & Siddha » खुजली के लिए आयुर्वेदिक उपचार

खुजली के लिए आयुर्वेदिक उपचार

खुजली के लिए आयुर्वेदिक उपचार

जब त्वचा की सतह पर जलन का एहसास होता है और त्वचा को खरोंचने का मन करता है तो उस बोध को खुजली कहते हैं। खुजली के कई कारण होते हैं जैसे कि तनाव और चिंता, शुष्क त्वचा, अधिक समय तक धूप में रहना, औषधि की विपरीत प्रतिक्रिया, मच्छर या किसी और जंतु का दंश, फंफुदीय संक्रमण, अवैध यौन संबंध के कारण, संक्रमित रोग की वजह से, या त्वचा पर फुंसियाँ, सिर या शरीर के अन्य हिस्सों में जुओं की मौजूदगी इत्यादि से।

खुजली के लिए आयुर्वेदिक उपचार

  • खुजली वाली जगह पर चन्दन का तेल लगाने से काफी राहत मिलती है।
  • दशांग लेप, जो आयुर्वेद की 10 जड़ी बूटियों से तैयार किया गया है, खुजली से काफी हद तक आराम दिलाता है।
  • नीम का तेल, या नीम के पत्तों की लेई से भी खुजली से छुटकारा मिलता है।
  • गंधक खुजली को ठीक करने के लिए बहुत ही बढ़िया उपचार माना जाता है।
  • नीम के पाउडर का सेवन करने से त्वचा के संक्रमण और खुजली से आराम मिलता है।
  • सुबह खाली पेट एलोवेरा जूस का सेवन करने से भी खुजली से छुटकारा मिलता है।
  • नींबू का रस बराबर मात्रा में अलसी के तेल के साथ मिलाकर खुजली वाली जगह पर मलने से हर तरह की खुजली से छुटकारा मिलता है।
  • नारियल के ताज़े रस और टमाटर का मिश्रण खुजली वाली जगह पर लगाने से भी खुजली दूर हो जाती है।
  • शुष्क त्वचा के कारण होनेवाली खुजली को दूध की क्रीम लगाने से कम किया जा सकता है।
  • 25 ग्राम आम के

About The Author

Number of Entries : 120

Leave a Comment

Copyright © 2014herbal360. All rights reserved.

Scroll to top