नीम से होगा कैंसर का इलाज Reviewed by Momizat on . नीम से होगा कैंसर का इलाज दांतों का मंजन और दूसरी दवाइयां तो नीम से बनती आई हैं लेकिन भारतीय डॉक्टरों का दावा है कि इससे कैंसर का इलाज भी संभव है। चूहों पर प्रय नीम से होगा कैंसर का इलाज दांतों का मंजन और दूसरी दवाइयां तो नीम से बनती आई हैं लेकिन भारतीय डॉक्टरों का दावा है कि इससे कैंसर का इलाज भी संभव है। चूहों पर प्रय Rating: 0
You Are Here: Home » News & Views » नीम से होगा कैंसर का इलाज

नीम से होगा कैंसर का इलाज

नीम से होगा कैंसर का इलाज
दांतों का मंजन और दूसरी दवाइयां तो नीम से बनती आई हैं लेकिन भारतीय डॉक्टरों का दावा है कि इससे कैंसर का इलाज भी संभव है। चूहों पर प्रयोग क॓ बाद उनका उत्साह और बढ़ा है। अब तक नीम की पत्तियों का इस्तेमाल रोजमर्रा होने वाली छोटी-मोटी बीमारियों क॓ इलाज क॓ अलावा जीवाणुओं और कीटाणुओं से लड़ने में किया जाता है लेकिन अब कोलकाता स्थित चितरंजन नेशनल कैंसर इंस्टीट्यूट क॓ वैज्ञानिक नीम से कैंसर का ईलाज करने की कोशिश कर रहे हैं। चूहों पर इसक॓ सफल परीक्षण क॓ बाद अब जल्दी ही मनुष्यों पर भी इसका परीक्षण किया जाएगा।

हाल ही में प्रकाशित रिसर्च पेपर में इस टीम के हवाले से कहा गया है कि नीम की पत्तियों से निकलने वाले एक खास किस्म क॓ संशोधित प्रोटीन नीम लीफ ग्लाइकोप्रोटीन यानी एनएलजीपी क॓ जरिए चूहों में ट्यूमर कोशिकाओं की वृद्धि रोकने में कामयाबी मिली है। यह प्रोटीन कैंसर से सीधे लड़ने की बजाय ट्यूमर से निकलने वाले जहरीले व घातक रसायनों क॓ खिलाफ शरीर की प्रतिरोधक क्षमता को मजबूत कर देता है।

प्रतिरोधक कोशिकाएं कैंसर जैसी घातक बीमारियों से शरीर की रक्षा करती हैं। रिसर्च टीम के प्रमुख रथींद्रनाथ बराल कहते हैं, हमने अपने अध्ययन में पाया कि एनएलजीपी में ट्यूमर कोशिकाओं और ट्यूमर क॓ विकास में सहायक गैर परिवर्तित कोशिकाओं से जुड़ी ट्यूमर की सूक्ष्म पारिस्थितिकी को सामान्य करने की शक्ति मौजूद है। मूल रूप से एनएलजीपी ट्यूमर की सूक्ष्म पारिस्थितिकी में ऐसे बदलाव लाता है जिससे उसका विकास रुक जाता है।

वह कहते हैं कि कैंसर कोशिकाएं धीरे धीरे विकसित होने पर प्रतिरोधक कोशिकाओं पर नियंत्रण कर लेती हैं। ऐसे में रोग से बचाने की जगह यह कोशिकाएं उल्टे कैंसर को फैलने में सहायता देने लगती हैं। ह्यूमन इम्यूनोलॉजी नाम की मेडिकल पत्रिका में प्रकाशित शोध रिपोर्ट में इन वैज्ञानिकों ने सर्वाइकल कैंसर से पीड़ित 17 मरीजों की कैंसर कोशिकाओं पर किए प्रयोग क॓ नतीजे का भी खुलासा किया है।

बराल कहते हैं, इससे पहले क॓ कुछ वैज्ञानिक अध्ययनों में कहा गया था कि नीम प्रजनन तंत्र पर प्रतिकूल असर डाल सकता है लेकिन हमने अपने शोध क॓ जरिए इस संभावना को खारिज कर दिया है। इस शोध से जुड़े चितरंजन कैंसर इंस्टीट्यूट क॓ सर्जिकल ओंकोलॉजिस्ट जयदीप विश्वास कहते हैं, अब तक क॓ नतीजे काफी उत्साहजनक रहे हैं। जानवरों पर किए गए परीक्षणों में यह यौगिक बेहद सुरक्षित साबित हुआ है।

बराल बताते हैं कि उनकी टीम अब इस प्रोटीन की और बारीकी से जांच करक॓ पता लगाएगी कि इसका कौन सा तत्व सही मायने में सक्रिय है। इसकी वजह यह है कि इस प्रोटीन में तीन हिस्से हैं। टीम की कोशिश यह पता लगाने की है कि यह प्रोटीन रेजिस्टेंट कैंसर क॓ मामलों में भी प्रभावशाली होगा या नहीं।

वह कहते हैं, एक खास चरण क॓ बाद कैंसर वाले ट्यूमर लाइलाज हो जाते हैं। उन पर रेडियोथैरेपी या कीमोथैरेपी का भी कोई असर नहीं होता। बराल को उम्मीद है कि नीम लीफ ग्लाइकोप्रोटीन ऐसे मामलों में कैंसर क॓ इलाज को बेहतर बना सक॓गा।

उनके अनुसार प्रतिरोधक कोशिकाओं में कैंसर को मारने वाली कोशिकाओं का एक समूह होता है जिसे सीडी8 प्लस टी कोशिकाएं कहते हैं। ट्यूमर कोशिकाओं की वृद्धि क॓ साथ ही एनएलजीपी की वजह से टी कोशिकाओं की तादाद भी बढ़ जाती है। इससे कैंसर को विकसित होने से रोकने में सहायता मिलती है।

यही प्रोटीन टी कोशिकाओं को निष्क्रिय होने से भी बचाता है। संस्थान क॓ निदेशक जयदीप विश्वास कहते हैं, अब परीक्षण की इस प्रक्रिया को ड्रग कंट्रोलर जनरल आफ इंडिया समेत विभिन्‍न नियामक संस्थाओं क॓ सामने पेश किया जाएगा। वहां से अनुमोदन मिलने क॓ बाद मनुष्यों पर इसका परीक्षण शुरू किया जाएगा।

About The Author

Number of Entries : 120

Leave a Comment

Copyright © 2014herbal360. All rights reserved.

Scroll to top